Home धर्म अध्यात्म हिंदू धर्म में अक्षय तृतीय का महत्व क्या होता है

हिंदू धर्म में अक्षय तृतीय का महत्व क्या होता है

0
11

देशभर में 3 मई को अक्षय तृतीया मनाई जाएगी। हिंदू धर्म में इस दिन का बहुत महत्व है। अक्षय तृतीया वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाई जाती है। कुछ खरीदने के लिए भी यह दिन शुभ माना जाता है। कई जगहों पर अक्षय तृतीया को आख तिज के नाम से भी जाना जाता है। हिंदू समुदाय के अलावा, जैन धर्म के लोग भी इस दिन को मनाते हैं।

किसकी पूजा की जाती है?

 इस दिन भगवान विष्णु, भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है। जब कुछ नया शुरू करने की बात आती है, तो उस दिन को सबसे शुभ अवसरों में से एक माना जाता है

आइए जानते हैं कि हिंदू धर्म में अक्षय तृतीय का महत्व क्या होता है-

ऐसी मान्यता है कि भगवान विष्णु के दसवें अवतार परशुराम का जन्म अक्षय तृतीया के दिन ही हुआ था। वहीं सत्य युग का अंत और त्रेता युग की शुरुआत भी अक्षय तृतीय से ही हुई।

अक्षय तृतीया ही वह दिन है। जिस दिन कृष्ण के मित्र सुदामा ने उन्हें भोजन कराया था। इसके बजाय, कृष्ण ने अपने प्रिय मित्र को सुख और समृद्धि का आशीर्वाद दिया था।

महाभारत के अनुसार अक्षय ने वन में रहते हुए द्रौपदी को अक्षयपात्र दिया था। ताकि जंगल में उनका खाना कभी खत्म ना हो। वेद पढ़ने वाले लोगों ने अक्षय तृतीया वाले दिन से महाभारत लिखना शुरू किया था।

अक्षय तृतीय के दिन ही भागीरथी की प्रार्थना में गंगा स्वर्ग से धरती पर उतरी थी।

पुरी में जगन्नाथ की बारात के लिए रथों का निर्माण अक्षय तृतीय से ही शुरू हुआ था।

मरने वाला व्यक्ति स्वर्ग को पाता है

पारंपरिक मान्यता के अनुसार इस दिन यदि किसी की मृत्यु हो जाती है। तो उसे अमर स्वर्ग की प्राप्ति होती है।

इस दिन कुबेर की तपस्या से संतुष्ट होकर महादेव ने उन्हें अतुलनीय ऐश्वर्य प्रदान किया था।

सोना- चांदी खरीदें

ऐसा माना जाता है कि अक्षय तृतीया में सोना या चांदी खरीदना बहुत शुभ होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन सोना या चांदी खरीदने से लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है। इस दिन सोना खरीदने से परिवार में सुख-समृद्धि बढ़ती है। इस दिन से कोई नया व्यवसाय शुरू करना लाभदायक माना जाता है। इसके अलावा अक्षय तृतीय में प्रवेश करना, ध्यान करना और गायों को भोजन कराना शुभ कर्म माना जाता है। पुराणों के अनुसार अक्षय तृतीया के दिन सभी पापों का नाश होता है और सभी प्रकार के सुखों की प्राप्ति होती है। इस दिन अगर कोई दान करता है तो उसका फल बरकरार रहता है।

अक्षय तृतीया क्या है?

संस्कृत में अक्षय शब्द का अर्थ कुछ ऐसा है। जो कभी समाप्त नहीं होता है या प्रकृति में शाश्वत है। यह शुभता और अच्छाई का प्रतीक है। इसलिए इस दिन आपसे सोना खरीदने, नया घर खरीदने या अपने जीवन के बड़े फैसले लेने की उम्मीद की जाती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि इस तरह की खरीदारी या निर्णय फल देने की संभावना है।

अक्षय तृतीया का क्या महत्व है?

इस दिन सोना-चांदी खरीदना बेहद शुभ माना जाता है। ये धातुएं देवी लक्ष्मी का प्रतीक हैं। ऐसा माना जाता है कि अगर आप इस त्योहार पर सोने या चांदी में निवेश करते हैं, तो देवी आपको बहुतायत में धन और समृद्धि का आशीर्वाद देगी। यह एक महत्वपूर्ण अक्षय तृतीया महत्व है जिसे आपको जानना आवश्यक है।

कोई भी शुभ काम कर सकते हैं

यदि आप इस दिन गृह प्रवेश करने की योजना बना रहे हैं, तो आपको मुहूर्त के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। आप दिन में किसी भी समय नए घर में प्रवेश कर सकते हैं। साथ ही, इस दिन दान करने से भी दाता के जीवन में कई सकारात्मक परिणाम आते हैं। 

इसके अलावा, यदि आप अक्षय तृतीया के दिन कोई व्यवसाय शुरू करते हैं, तो यह निश्चित रूप से फलता-फूलता है। बहुत से लोग इस दिन अपने पापों को धोने के लिए गायों को चारा भी खिलाते हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here