Home » यहाँ बिल्कुल नहीं चाहिए पूजा घर |घर में आती है धन समृद्धि की कमी

यहाँ बिल्कुल नहीं चाहिए पूजा घर |घर में आती है धन समृद्धि की कमी

by Renuka
यहाँ बिल्कुल नहीं चाहिए पूजा घर |घर में आती है धन समृद्धि की कमी

पूजा घर कहाँ नहीं होना चाहिए?

किसी भी शुभ कार्य के लिए घर से निकलते समय सभी लोग घर में ही पूजा-अर्चना करते हैं। पूजा  घर की सकारात्मक ऊर्जा सभी का विश्वास बहाल करती है। इसलिए आपको यह सोचना चाहिए कि अपने घर के देवता का घर कहां बनाना है। नहीं तो उनका घर यदि गलत जगह बन गया तो आपके परिवार पर संकट भी आ जाएगा। इसलिए वास्तु के नियमों के अनुसार जानिए कि अपने घर का मंदिर कहां बनाना चाहिए।

पूर्व दिशा का चयन करें

भगवान का पूजा घर हमेशा घर के पूर्व दिशा में होना चाहिए। कारण सूर्य पूर्व दिशा से ही निकलता है, इसलिए पूर्व दिशा को ही अच्छी ऊर्जा का स्रोत माना गया है। इस स्थान में पूजा पाठ करने से सकारात्मक ऊर्जा व्यक्ति को मिलता है।

वास्तु के अनुसार घर का मंदिर या पूजा कक्ष डिजाइन करते समय, यह सुनिश्चित करना चाहिए कि घर का मंदिर वास्तु के अनुसार उचित दिशा में है या नहीं।

बृहस्पति को उत्तर-पूर्व दिशा का स्वामी माना जाता है, जिसे ‘ईशान कोण’ भी कहा जाता है। ईशान कोण को ईश्वर या भगवान का कोण माना जाता है। इस प्रकार यह भगवान/बृहस्पति की दिशा है। इसलिए घर क मंदिर भी इसी दिशा में रखा जाता है। इसलिए मंदिर को वहीं रखने की सलाह दी जाती है। 

इसके अलावा, पृथ्वी का झुकाव भी केवल उत्तर-पूर्व दिशा की ओर है और यह उत्तर-पूर्व के शुरुआती बिंदु के साथ चलती है। इसलिए यह कोना ट्रेन के इंजन की तरह है, जो पूरी ट्रेन को खींच लेता है। घर में मंदिर की दिशा भी ऐसी ही होती है – यह पूरे घर की ऊर्जा को अपनी ओर खींचती है और फिर आगे ले जाती है। 

वास्तु के अनुसार मंदिर की दिशा के अनुसार, घर के बीच में स्थित एक मंदिर – एक क्षेत्र जिसे ब्रह्मस्थान कहा जाता है – को भी शुभ माना जाता है और यह घर के निवासियों के लिए समृद्धि और अच्छा स्वास्थ्य ला सकता है।

किचन या बाथरूम के पास पूजा घर ना बनाएं

अपने बाथरूम या किचन के पास कभी भी किसी देवता का घर या पूजा घर ना बनाएं। यह आपके परिवार के लिए बुरा हो सकता है। दरअसल पूजा कक्ष के बगल में शौचालय नहीं होना चाहिए। लेकिन यह बात शत-प्रतिशत सत्य नहीं है।

यदि आपने अपना मंदिर सही दिशा में रखा है। तो आपको केवल इस बात का ध्यान रखना है कि मंदिर शौचालय की दीवार को ना छुए। ऐसे में आप शौचालय तो नहीं गिरा सकते लेकिन आप मंदिर को शौचालय की दीवार से छूने से बचा सकते हैं।

पूजा उपाय से भी लक्ष्मी आपके घर में नहीं है?

अगर आपका मंदिर सही दिशा और सही जगह पर है और उसके बगल में कोई शौचालय नहीं है, तो यह शानदार है।

सावधान रहें कि अपने मंदिर को गलत जगह और गलत दिशा में ना रखें क्योंकि यह आपके घर का ऊर्जा भंडार है।

शौचालय और पूजा कक्ष एक ही वास्तु क्षेत्र में नहीं हो सकते। यह कोई वास्तु दोष नहीं बनाता है। लेकिन उस क्षेत्र में पूजा करने से आपको बहुत अधिक पैसा खर्च करना पड़ेगा क्योंकि आपकी सारी सोच आपको उन चीजों पर पैसा खर्च करने के लिए प्रेरित करेगी। जिनका आप अंत में उपयोग नहीं करेंगे। जैसे कि शौचालय हमेशा धन या मन की स्पष्टता को छीन लेता है।

पूजा घर के दरवाजे को भी उचित दिशा में बनवाएं

पूजा घर की खिड़कियों और दरवाजे को हमेशा ही पूर्व दिशा या उत्तर-पूर्व दिशा में रखें। पूजा कक्ष में मूर्तियों को एक-दूसरे या दरवाजे के सामने भी नहीं रखना चाहिए। वे आदर्श रूप से उत्तर-पूर्व में स्थित होने चाहिए, और दीवार के बहुत करीब नहीं होने चाहिए।

अपने प्रवेश द्वार पर देवी-देवताओं की मूर्तियों और चित्रों को रखना शुभ माना जाता है। वास्तु के अनुसार, सौभाग्य, धन और समृद्धि का स्वागत करने के लिए आप अपने घर के प्रवेश द्वार पर गणेश और लक्ष्मी की मूर्तियां और तस्वीरें रख सकते हैं।

लोहे का प्रयोग पूजा घर में कम करें

पूजा करते समय शुभ और पवित्र वस्तुओं के प्रयोग का विशेष ध्यान रखा जाता है। छोटी-छोटी चीजें शुभ होने पर ही पूजा का पूरा फल मिलता है। वहीं साधक की जरा सी भी लापरवाही पूजा को अशुभ बना सकती है।

ऐसे में पूजा में इस्तेमाल होने वाले बर्तनों का खास ख्याल रखा जाता है। कई बार हमें इस बात की जानकारी नहीं होती है कि पूजा के दौरान कौन से धातु के बर्तनों का प्रयोग करना चाहिए। आइए जानते हैं पूजा के समय किस धातु का प्रयोग करना शुभ होता है। धातु की वस्तु से पूजा घर बिल्कुल भी ना बनाएं। घर के मंदिर को बनाने के लिए आप संगमरमर या किसी अन्य पत्थर का उपयोग कर सकते हैं।

देवताओं के लिए तांबे का प्रयोग

धार्मिक मान्यता है कि तांबा देवताओं को बहुत प्रिय होता है। इसलिए किसी भी देवता की पूजा में तांबे के बर्तन का प्रयोग शुभ माना जाता है। इस संबंध में एक श्लोक का भी उल्लेख किया गया है।

“तत्तम्रभजने महम दियाते यत्सुपुष्कलम।

अतुल दस में प्रीतिर्भुमे जानी सुव्रते।

मंगलम चा पवित्रम चा ताम्रंते प्रियं मम।

और हम ताम्रम समुत्पन्नमिति में रुचि रखते हैं।

दीक्षितैरवई पदयार्ध्यदौ चा दियाते।

इसका अर्थ है कि पूजा के दौरान तांबा शुभ, पवित्र और भगवान को बहुत प्रिय होता है। तांबे के बर्तन में कुछ भी चढ़ाने से भगवान बहुत प्रसन्न होते हैं। इसलिए पूजा के समय तांबे के बर्तनों का प्रयोग किया जाता है।

शनि भगवान को ही लोहे के बर्तन में प्रसाद दे सकते हैं। बाकि सबको तांबे या पीतल में देना शुभ होता है।

पूजा घर के रंगों का भी ख्याल रखें

हमेशा अपने पूजा घर का रंग सफेद, पीला या हल्का नीला रखें। पीला सकारात्मकता और खुशी से जुड़ा एक  रंग है। यह पूजा कक्ष के लिए एकदम सही पृष्ठभूमि की दीवार का रंग साबित होता है। उत्तर पूर्व दिशा की ओर मुख वाला पूजा कक्ष, पीले रंग के साथ, वास्तु शास्त्र सिद्धांतों के अनुसार अधिकतम अच्छी ऊर्जा प्राप्त करने में मदद कर सकता है।

वास्तु के अनुसार पूजा कक्ष का सफेद रंग पवित्रता और शांति का प्रतीक है, जिसे हम अपने पूजा स्थलों में खोजना चाहते हैं। भारत में स्मारकीय मंदिर हैं। जो भी इस सफ़ेद रंग योजना का जश्न मनाते हैं। उदाहरण के लिए, संगमरमर एक विश्वसनीय सामग्री है और आपके पूजा कक्ष में शांतिपूर्ण वाइब्स की प्रचुरता लाने के लिए एक बढ़िया विकल्प है।

हरा रंग ना केवल प्रकृति और जीवन की वास्तु-अनुमोदित अभिव्यक्ति है। बल्कि यह आपके घर से जुड़ने के लिए रंगों का एक सुंदर पॉप भी है। वास्तु के अनुसार हरे रंग के पूजा कक्ष के रंग के साथ, आप अपने पूजा कक्ष द्वारा प्रदान की जाने वाली ताजी और दिव्य ऊर्जा के एक कदम और करीब महसूस कर सकते हैं।

इस तरह एक सामान्य स्थान पर पूजा इकाई स्थापित करने के लिए उचित विचार की आवश्यकता होती है। पूजा घर का रंग ऐसा होना चाहिए कि यह आपके पूजा कक्ष के आसपास के क्षेत्रों की रंग योजना के साथ मिश्रित हो। नीले जैसे हल्के रंग वास्तु शास्त्र की आवश्यकताओं का अनुपालन करते हैं। इसके अतिरिक्त, नीले जैसा रंग एक स्थान से दूसरे स्थान में निर्बाध रूप से संक्रमण में मदद कर सकता है।

वास्तु के अनुसार पूजा कक्ष के लिए किन रंगों से बचना चाहिए?

वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों के अनुसार, पूजा कक्ष या पूजा इकाई के लिए हल्के, चमकीले और शांत रंग सबसे अच्छे विकल्प हैं।

इसका मतलब है कि आपको गहरे रंगों से बचना चाहिए जो सकारात्मकता और प्रकाश की श्रृंखला को तोड़ते हैं।

उदाहरण के लिए, काला एक ऐसा रंग है जिससे आपको किसी भी कीमत पर पूजा कक्ष के लिए बचना चाहिए।

पूजा पाठ करने के बाद भी दरिद्रता नहीं छोड़ रही घर का पीछा?

आपको मंदिर में घंटी रखनी है और पूजा के बाद आपको नियमानुसार घंटी बजानी है। इससे भी नकारात्मक ऊर्जा चली जाती है।

मंदिर का दीपक हमेशा दक्षिण-पूर्व कोने में रखना चाहिए। इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि दीपक किसी भी प्रकार से जमीन पर ना लगे बहुत से लोग कहते हैं कि यह दुनिया के लिए बुरा होता है‌।

घर के मंदिर में रखी देवी-देवताओं की मूर्तियां कभी भी 2 इंच से कम और 9 इंच से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। 

वास्तु के अनुसार भगवान की मूर्तियां एक-दूसरे के सामने नहीं होनी चाहिए। इतना ही नहीं एक ही देवता की दो तस्वीरें या मूर्ति नहीं रखनी चाहिए। इसे अशुभ माना जाता है। यह सुनिश्चित करें कि भगवान की तस्वीर या मूर्ति दीवार से चिपकी तो नहीं है।

ठाकुर घर और पानी का उपयोग

ठाकुर के घर में प्रवेश करते समय हाथ-पैर अवश्य धोना चाहिए। वास्तु का कहना है कि इस नियम का पालन करने के साथ ही घर में शांति बहाल करने के लिए पूजा के घर में तांबे के बर्तन में पानी रखना जरूरी है।

दीपक कहाँ लगाएं?

पूजा घर के दीपकों को देवता के घर के दक्षिण-पूर्व दिशा में रखना चाहिए। यदि कोई दीपक या प्रकाश हो तो उसे घर के दक्षिण पूर्व दिशा में रखना चाहिए।

फर्श की सजावट

हम आमतौर पर रंगोली को अलग-अलग मौकों पर भगवान के ठीक सामने बनाते हैं। दीवार के रंग से मेल खाने के लिए स्थायी रंगोली को रंग से रंगा जा सकता है। साथ ही एक छोटा कालीन या गलीचा भी रखा जा सकता है। इस पर छोटे-छोटे कुशन देखकर अच्छा लगता है। पूजा के घर के फर्श पर बड़े फूलदान भी रखे जा सकते हैं। इसे रोजाना ताजे फूलों से भरा जा सकता है।

You may also like

Leave a Comment