परीक्षा से डरे नहीं, ऐसे करे तैयारी, exam anxiety and preparation

0
255
परीक्षा

exam anxपरीक्षा से डरे नहीं, ऐसे करे तैयारी. ऐसे कई विद्यार्थी होंगे, जिन्होंने

बहुत पढ़ाई की लेकिन फिर भी मनचाही सफलता नहीं मिली।

अच्छे अंक लाना ही मंजिल नहीं

दोस्तों सबसे पहली बात परीक्षा मे ज्यादा अंक मिलना ही

सफलता नहीं है। ऐसे कई लोग है  जिन्होंने बहुत पढ़ाई की,

अच्छे मार्क्स भी लाए, लेकिन फिर भी वो अपने जीवन मे संघर्ष कर रहे हैं।

काम को आसान बनाता है अभ्यास

कोई भी काम मुश्किल या आसान नहीं होता। कोई भी काम

हो शुरू में हमेशा ही मुश्किल होता है। जब आप उसे लगातार

करते रहते हैं, तो धीरे-धीरे आप उस कार्य में निपुण हो जाते हो,

फिर चाहे वह पढ़ाई ही क्यू ना हो। exam anxiety and preparation

परीक्षा से डरे नहीं : डटे रहना है

अगर आप किसी लक्ष्य को प्राप्त करने में पूरे मन से लगे हुए

हैं, तो प्रकृति भी आपके लिए आपकी सफलता का मार्ग प्रशस्त

करती है।आपको सिर्फ उस और प्रयास करने की जरूरत है।

ऐसे देना है अपने बच्चे का साथ

·      विश्वास रखे

पेरेंट्स भी यहां भूमिका निभाते है। परटेक बच्चे में सफल

होने की काबिलियत है, बस उसका तरीका अलग अलग हो

सकता है। आपके बच्चे के प्रति आपका विश्वास बंधन इतना

मजबूत होना चाहिए कि, वो आपको अपने जीवन की हर बात

बताए, आपसे कुछ भी छिपाए नहीं।

·      एक अच्छा श्रोता बनें

आप अपने बच्चे की सभी बाते अच्छी तरह सुनें और समझें।

कोई भी निष्कर्ष निकालने से पहले उसे भावनात्मक और

विश्लेषणात्मक रूप से जानें, समझें। उससे कोई गलती हो जाती

है तो भी उसे डांटे नहीं, दोषी ना ठहराये। उसे जरूर उसका पक्ष रखने दें।

·      बचों साथ वक्त बिताएं

यह जानते हुए कि जीवन में सबसे ज्यादा प्यारा, अजीज हर

माता-पिता के लिए उसका बच्चा ही होता है। कई बार जाने

अनजाने मे माता-पिता बच्चे की दैनिक जरूरतें पूरी कर देते

 हैं, पैसों की कमी महसूस नहीं होने देते। अच्छे स्कूल में भी

 दाखिला दिलवा देते हैं। पर बच्चों को समय बहुत कम दे

पाते हैं, जो की बेहद ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

·      बच्चे को प्रेरित करें

अपने बच्चे को काम न करने के नुकसान ज्यादा न बताएं।

उसको काम को सफलतापूर्वक कैसे किया जय ये बताए और

उससे होनेवाले फ़ायदों के बारे मे बाते करे।

·      सफल व्यक्ति बनने के लिए पढ़ाएं

बच्चो को सिर्फ अच्छे मार्क्स लाने के लिए ना पढ़ाएं, बल्कि

सम्पूर्ण सफल व्यक्ति बनाने के लिए पढ़ाएं। पढ़ाई का

वास्तविक उद्देश्य सम्पूर्ण व्यक्तित्व का विकास होता है, इस

बात को समझकर उनको पढऩे को प्रेरित करें। उनकी पढ़ाई से

जुड़े गुणों को जानें और उनकी समस्याओं को समझें

और उनकी उसमे मदद करे।

सकारात्मक सोच रखे

बच्चों हमेशा सफल कैसे हों, इस बारे में सोचें और हमेशा

पॉजिटिव रहें। कौन स भी विषय या परीक्षा हो, उससे डरे

नहीं और ना ही तनाव में आएं। अपने आप से कहें कि

आपके दिमाग और इरादे के आगे ये कुछ नहीं है। कभी

भी यह ना सोचें कि मुश्किल है या नहीं होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here