31.1 C
Delhi
Saturday, October 1, 2022

पीएम मोदी हेल्थ आई कार्ड योजना

प्रधानमंत्री मोदी हेल्थ आई कार्ड 2021 क्या है?

हमारे देश में ही नहीं बल्कि संपूर्ण विश्व में कोरोना का संक्रमण जिस तेजी से फैल रहा है , इसके लिए लोगों को बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसमें बीमार व्यक्ति अपने इलाज के लिए एक शहर से दूसरे शहर में घूम घूम कर परेशान हो रहे हैं। सभी बीमार व्यक्तियो को सही समय पर उचित इलाज नहीं मिल पा रहा है , इससे उनको बहुत समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इन सब परेशानियों को देखते हुए हमारे प्रधानमंत्री जी ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर पीएम मोदी हेल्थ कार्ड योजना को शुरू किया। इस कार्ड के अंदर बीमार व्यक्ति की सभी जानकारी होगी उसको कहीं पर भी अपनी बीमारी की रिपोर्ट लेकर जाने की जरूरत नहीं होगी इस कार्ड के माध्यम से वह अपना इलाज आसानी से करवा सकता है।

क्या है उद्देश्य सरकार व हेल्थ आई कार्ड 2021 का?

हमारे माननीय प्रधानमंत्री जी ने इसे हेल्थ आई कार्ड योजना को शुरू करने का जो मुख्य उद्देश्य था वह मरीजों की सभी जानकारी को डिजिटल रूप से इस कार्ड के अंदर सेव करके रखना था क्योंकि जब मरीज कहीं पर भी अपने इलाज के लिए जाता है तो इस कार्ड के द्वारा अपना जो भी डाटा है वह डॉक्टर के पास इस कार्ड के माध्यम से बता सकता है इस कार्ड में मरीज की सारी जानकारी आ जाती है जिससे उसको अपने आगे के इलाज में काफी मदद मिलती है और इलाज भी सही ढंग से हो पाता है इस कार्ड के माध्यम से मरीजों के साथ ही डॉक्टरों के समय की बहुत बचत होती है

किस प्रकार से आप पीएम मोदी हेल्थ आई कार्ड को बनवा सकते हैं?

पीएम मोदी हेल्थ कार्ड योजना के लिए आपको सबसे पहले भारत सरकार की नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन की वेबसाइट पर जाकर आप ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। इस योजना का लाभ देश का हर नागरिक प्राप्त कर सकता हैं। इसके लिए कुछ जरूरी कागजात की जरूरत होती है। सबसे पहले आपका भारत का नागरिक होना जरूरी होता है तथा आपके पास आधार कार्ड , बैंक अकाउंट , आपके मोबाइल नंबर ,और राशन कार्ड इन सभी कागजो की आपको इस कार्ड के लिए जरूरत पढ़ सकती है।

कैसे और कहां काम करता है हेल्थ आई कार्ड?

पीएम हेल्थ आई कार्ड के अंदर व्यक्ति का पूरा मेडिकल डाटा रखने के लिए अस्पताल ,क्लीनिक, डॉक्टर इन सबके पास सेंट्रल सरवर लिंक रहेंगे। अब अस्पताल और नागरिकों के लिए उनकी मर्जी पर तय होगा कि वह इस योजना से जुड़ना चाहते हैं या फिर नहीं। इस आई कार्ड में हर नागरिक की एक यूनिक आईडी होगी , उसी के आधार पर इनको लॉगइन करना होगा। इस कार्ड के अंदर मुख्य रूप से चार चीजों पर ध्यान दिया गया है – हेल्थ आईडी व्यक्ति का ,स्वास्थ्य रिकॉर्ड, देश के अच्छे डॉक्टर और स्वास्थ्य सुविधाओं का रजिस्ट्रेशन इन चार पर विशेष तौर से ध्यान दिया गया है।

“वन नेशन वन हेल्थ कार्ड” क्या है?

भारत सरकार की वन नेशन वन हेल्थ कार्ड योजना के द्वारा देश के हर व्यक्ति को एक हेल्थ कार्ड बनवाना होगा। इस कार्ड में बीमार व्यक्ति के ट्रीटमेंट और उसके टेस्ट की पूरी जानकारी डिजिटल रूप से सेव होंगे इसको रिकॉर्ड के रूप में रखा जाएगा इसका सबसे ज्यादा फायदा देश में किसी भी हॉस्पिटल में डॉक्टर के पास जाकर इलाज करवाने पर होगा, क्योंकि आपको अपनी बीमारी के जरूरी कागज और रिपोर्ट को कहीं भी साथ ले जाने की जरूरत नहीं होगी डॉक्टर कहीं भी बैठकर आपके इस कार्ड के द्वारा आपका पूरा मेडिकल रिकॉर्ड आसानी से देख सकते हैं। इस कार्ड को वन नेशन वन हेल्पर इसलिए कहा गया क्योंकि इस कार्ड के द्वारा व्यक्ति किसी भी राज्य के बड़े अस्पताल में अपना इलाज करवा सकता है, इसीलिए इसको वन नेशन वन हेल्थ कार्ड कहा।

Aditi
Aditihttps://apnibat.com/
अगर आपको मेरी सलाह या आर्टिकल पसंद आते है तो शेअर जरूर करें। कृपया यह लेख पूरा पढ लीजिए। लेख मे दिए गए विचार मेरे अपने है। हो सकता है की इस विषय मे आपके कुछ अलग अनुभव/विचार हो। अगर आप भी कुछ सूझाव देना चाहते है तो कृपया आपकी राय comment में बतायें। आपकी एक राय किसी की जिंदगी में खुशियों की बहार ला सकती है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles